Follow by Email

What's On in Muslim World

What Are You Searching?

Contact Us

Name

Email *

Message *

Archive

जामिया नगर में नागरिक अधिकारों के लिए विषाल मार्च

Share it:
नर्इ दिल्ली  एसोसिएषन फार प्रोटेक्षन आफ सिविल राइटस एपीसीआर की दिल्ली षाखा के द्वारा जामिया नगर थाने से ओखला हेड, तिकोना पार्क बटला हाउस जाकिर नगर होते हुए मसिजद खलिलुल्लाह तक एक विषाल रैली का आयोजन हुआ।

एसोसिएषन फार प्रोटेक्षन आफ सिविल राइटस (एपीसीआर) की दिल्ली षाखा के सचिव श्री एखलाक़ अहमद ने रैली को संबोधित करते हुए कहा कि पुलिस जनता की रक्षा के लिए है उनको डराने एवं उनका अपहरण करने के लिए नहीं। उन्होंने लोगों का आहवान किया कि वे  अपने अधिकारों के प्रति जागरुक बनें और उनकी सुरक्षा के लिए खड़े हों 

सभा को संबोधित करते हुए एपीसीआर की दिल्ली षाखा के उपाध्यक्ष एडवोकेट फिरोज़ ख़्kन ग़ाज़ी ने कहा कि कानून ने नागरिकों को जो अधिकार दिए हैं उनकी रक्षा करना राज्य सरकार, प्रषासन और पुलिस की जि़म्मेदारी है। लेकिन आज यही नागरिकों के अधिकारों का हनन करने में लगे हैं। जनता को इसका विरोध करना चाहिए। क़ानून तोड़ने का अधिकार किसी को नहीं है।

मार्च को संबोधित करते हुए जमाअत इसलामी हिन्द के राष्ट्रीय सचिव इंजीनियर मोहम्मद सलीम ने कहा कि एपीसीआर की दिल्ली षाखा ने सही समय पर जन जागरुकता अभियान छे्रड़ा है। वर्तमान में जबकि नागरिक अधिकारों का हनन बढ़ रहा है आवष्यक है कि लोगों को उनके अधिकारों के प्रति सचेत किया जाए। मार्च को छात्र संगठन स्टूडेंटस इस्लामिक आर्गेनाइजेषन आफ इंडिया के प्रदेष अध्यक्ष श्री अनीसुर्रहमान ने भी संबोधित किया।


एपीसीआर की दिल्ली षाखा की ओर से छेड़े गए नागरिक जागरुकता अभियान के अन्तर्गत नुक्कड़ सभाएं, हैंडबिल वितरण, और मसिजदों के एमामों से मुलाकात करके उन्हें नागरिक अधिकारों के बारे में बताया जा रहा है ताकि लोगों में जागरुकता पैदा हो सके और वे अपने संवैधानिक अधिकारों को जान सकें और उनकी रक्षा के लिए प्रतिबद्ध हों।


मार्च में लगभग दो सौ सामाजिक कार्यकर्ता वकील एवं छात्रों ने भाग लिया।


Akhlak Ahmad 
Association for Protection of Civil Rights(APCR)
108-III Floor,Pocket-1
Behind Living Style Mall
Jasola Vihar
New Delhi-25
Phone # 011-64639388
Mob # 9899384358
Share it:

Communalism

Featured

India

Latest News

Photo Gallery

हिंदी

Post A Comment:

0 comments: