Headlines
Published On:07 February 2011
Posted by Indian Muslim Observer

पुलिस उत्पीड़न में यूपी दूसरे नंबर पर

मुजफ्फरनगर [मनीष शर्मा]। उत्तर प्रदेश पुलिस पर अक्सर उत्पीड़न और फर्जी खुलासों के आरोप लगते रहे हैं। परंतु अब हकीकत के धरातल पर भी यूपी की खाकी देश में सबसे ज्यादा 'दागी' है। राष्ट्रीय अपराध अभिलेख ब्यूरो [एनसीआरबी] के मुताबिक मध्यप्रदेश पुलिस के खिलाफ सबसे ज्यादा शिकायतें की गईं। दूसरे पायदान पर यूपी पुलिस है। यूपीपी के खिलाफ 10953 शिकायतें हुई। शर्मनाक ये है कि जांच के बाद सबसे ज्यादा यूपी के मामले में सही पाई गई।

सत्ता में आने के बाद कहने को बसपा का मुख्य एजेंडा सूबे में पुलिस की छवि और कानून व्यवस्था में सुधार रहा। हालांकि 'खाकी' पर इसका दबाव नजर नहीं आया। नेशनल क्राइम रिकार्ड ब्यूरो [एनसीआरबी] की गत माह जारी रिपोर्ट 'क्राइम इन इंडिया 2009' भी इसकी तस्दीक कर रही है।

रिपोर्ट के मुताबिक देशभर में मध्यप्रदेश पुलिस के खिलाफ सबसे ज्यादा 15,903 शिकायतें मिलीं, जबकि दूसरे पायदान पर यूपी पुलिस के खिलाफ 10,953 शिकायतें हुई। पंजाब पुलिस 4,212 शिकायतों के साथ तीसरे नंबर पर है।

ऐसे लगा खाकी पर 'दाग'

एमपी पुलिस के खिलाफ मिलीं शिकायतों में 11,261 जांच के दौरान झूठी साबित हुई, जबकि यूपी पुलिस के खिलाफ हुई 3,041 शिकायतें ही फर्जी मिलीं। ऐसे में यूपी पुलिस के खिलाफ सबसे ज्यादा 7,912 शिकायतें सही मिलीं और पंजीकृत हुई। इसी क्रम में 7,734 शिकायतों में विभागीय कार्रवाई की संस्तुति की गई। जबकि शेष में चार्जशीट दाखिल की गई। एमपी पुलिस के खिलाफ 4,014 दर्ज हुए और पंजाब पुलिस के खिलाफ मात्र 69 शिकायतें हुई पंजीकृत की गईं।

उद्दंडता में भी आगे

उत्तर प्रदेश की पुलिस वालों पर खाकी का सुरूर इस कदर हावी है कि उद्दंडता करने में भी यूपी के पुलिसवाले सबसे आगे हैं। रिपोर्ट के मुताबिक यूपी के 8,001 पुलिस वालों के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई की गई। जबकि दूसरे नंबर पर राजस्थान के 4,271 पुलिस वाले रहे। कठोर दंड पाने के मामले में भी यूपी पुलिस सबसे आगे हैं। उद्दंडता व शिकायतों के चलते यूपी के 170 पुलिसकर्मियों को डिसमिस किया गया। जबकि 492 को बड़ा व 6,612 को हल्की सजा दी गई। इसी क्रम में राजस्थान, पंजाब और फिर गुजरात पुलिस का नंबर है। (Dainik Jagran)

About the Author

Posted by Indian Muslim Observer on February 07, 2011. Filed under , , . You can follow any responses to this entry through the RSS 2.0. Feel free to leave a response

By Indian Muslim Observer on February 07, 2011. Filed under , , . Follow any responses to the RSS 2.0. Leave a response

0 comments for "पुलिस उत्पीड़न में यूपी दूसरे नंबर पर"

Leave a reply

Donate to Sustain IMO

IMO Search

IMO Visitors

    Archive